kagaaz

साहित्य, कला, और डिज़ाइन

रमज़ी बराउद : तिहाड़ जेल में चाय-पान

फ़िलिस्तीन के पत्रिकार/कवि रमज़ी बराउद ने (रफ़ीक़ कथवरीकी सहायता से) अफ़ज़ल गुरु के बारे में यह मार्मिक और ज़ोरदार कविता लिखी है। ब्लॉगर/कवियत्री सीपीया वर्स ने हिन्दी में उसका अनुवाद … पढना जारी रखे

फ़रवरी 19, 2013 · टिप्पणी करे

खड़ी बोली – चार कवि, चार अनुवादक : अप्रैल 27, 2012 (दिल्ली)

खड़ी बोली : चार कवि, चार अनुवादक तारीख : शुक्रवार, अप्रैल 27, 2012 समय : 6:30 PM स्थान : SARAI, 29 राजपुर रोड, सिविल लाईंज़, नई दिल्ली (मेट्रो : सिविल लाईंज़) … पढना जारी रखे

अप्रैल 26, 2012 · टिप्पणी करे